Saturday, September 19, 2020

Flash News

कोरोना अलर्ट

उदयपुर में शुक्रवार को सामने आए 66 नए संक्रमित, 46 शहरी क्षेत्र के
कोरोना : उदयपुर जिला परिषद 20 सितम्बर तक बंद
कोरोना के बीच सीबीएसई की सप्लीमेंट्री परीक्षा 22 से
मार्गदर्शन के लिए 21 सितम्बर से स्कूल जा सकेंगे 9वीं से 12वीं के बच्चे
1 अक्टूबर से खुलेंगे उदयपुर के ऋषभदेव और महाकालेश्वर मंदिर

About Welcome 2 Udaipur

वेलकम 2 उदयपुर

‘वेलकम 2 उदयपुर’ जी हां, जब भी कोई मेहमान हमारे शहर में आता है तो हम एकदम शॉर्ट टर्म में यही कहकर उसका स्वागत करते हैं। इन शब्दों में न केवल स्वागत की भावना जुड़ी है, बल्कि ये शब्द हमारी मेहमाननवाजी के प्रति समर्पण को भी दर्शाता है।

मेवाड़ की मेहमाननवाजी विश्व प्रसिद्ध है। मेहमान की हर चीज, यहां तक कि उसकी हर भावना की चिंता मेवाड़वासी करते हैं, उसके किसी तकलीफ को महसूस करने से पहले ही जरूरत मुताबित व्यवस्था करने की चिंता रहती है। बस इसी भावना को लेकर हमने यह प्रयास किया शुरू किया है।

उदयपुर आने वाले हर मेहमान के लिए अपने शहर के बारे में पर्याप्त जानकारी उपलब्ध हो, यह तो इस प्रयास का उद्देश्य है ही, साथ ही उदयपुर शहरवासियों को भी उनकी जरूरत के अनुसार जानकारी, मदद उपलब्ध हो सके, यह भी प्रयास किया जा रहा है। जैसे, यदि आपको इलेक्ट्रिशियन की जरूरत है तो कम से कम कुछ नंबर हमारे पास से आपको मिल जाएंगे, प्लम्बर की जरूरत है तो वह प्रयास भी हमने किया है, खासतौर से पिंजारे, पारम्परिक रूप से गधों की मदद से मलबा उठाने की सर्विस देने वाले सहित कुछ नंबर हम ऐसे भी ढूंढक़र आपको देने का प्रयास कर रहे हैं जो सामान्य तौर पर उपलब्ध नहीं हो पाते। हमारा प्रयास है कि ज्यादा न सही, लेकिन थोड़ी मदद तो हम आपकी कर ही दें।

इन सभी सेवाओं के साथ शहर को यह प्लेटफॉर्म अपना ही महसूस हो, शहर को अपनी छवि इस प्लेटफॉर्म में दिखाई दे, शहरवासियों को लगे कि उनकी भावना यहां परिलक्षित हो रही है, यह प्रयास भी यहां किया जा रहा है।

समाचार और समाचार विश्लेषण के साथ शहर की भावनाओं को भी हम जगह दे सकें, यह हमारा प्रयास है। नवाचारों, उत्कृष्ट सेवार्थियों, उत्सुक युवाओं, सेल्फ अचीवर्स को भी अपना अक्स नजर आए, यह प्रयास है। उभरती प्रतिभाओं को प्लेटफॉर्म सहजता से मिले, इसके लिए भी हम यहां आपको प्रतिबद्ध नजर आएंगे।

हम शहर की समाजसेवी संस्थाओं के सहयोग से यह भी प्रयास कर रहे हैं कि कम बजट में बेटी का ब्याह पूरी गरिमा से हो सके। संस्थाओं की जरूरतों को भी समाज तक पहुंचाने के लिए हमने स्थान देने का प्रयास किया है, पता नहीं किसके मन में कब मदद का भाव हो और जरूरतमंद की जरूरत पूरी हो जाए, हम सिर्फ समाज तक सूचना पहुंचाने का माध्यम मात्र होंगे।

‘गागर में सागर’ की कहावत पर चलने का प्रयास करते हुए हमारा उद्देश्य यही है कि आज के व्यस्त समय में व्यक्ति को सूचनाओं, सेवाओं की उपलब्धता संक्षिप्त लेकिन सटीक और अपने आप में सम्पूर्णता लिए हो।

टीम

वेलकम 2 उदयपुर